Monday, November 4, 2013

आज पढ़ें इमरोज़ जी की लिखी कुछ उक्तियाँ  ……
(१)
आज़ाद  …
आज़ाद वह है
जो गुलाम होने से
इंकार कर सकता है …
(२)
धर्म  …
जो तुम सब के साथ चलता है
वह धर्म है
और जिसके पीछे चलना पड़े
वह धर्म नहीं होता ……
(३)
सच  …
किसी का सच
अपना सच नहीं बन सकता
अपना सच
खुद जी कर बनता है  ....
(४)
मज़हब  …
आज़ाद का आज़ाद होना ही
उसका मज़हब है
वैसे कोई भी मज़हब
आज़ाद नहीं  …
(५)
 ज्ञान  .... 
तेरा मेरा प्यार ही
ज्ञान है ज़िन्दगी का  …
(६)
आदर  .... 
न तरस करो
न रहम करो
इनमें आदर नहीं  …
(७)
स्कूल  .... 
आम स्कूल
सिर्फ जुबान सिखाते हैं
पर जीना सिखाते हैं
ज़िन्दगी के स्कूल  ....
(८)
अपना  .... 
जितनी देर मैं अपना हूँ
सब अपने हैं …।
(९)
दान  ....
 
पैसे बाँटना दान नहीं
अपना आप बाँटना दान है  …
(१० )
ख़ूबसूरती  … 
घर में तेरी-मेरी मौजूदगी
रेयर ख़ूबसूरती है
और रेयर घर की सजावट भी  …
(११)
किसी को  .... 
किसी को जानने से पहले
अपने आप को जान लो  …
(१२ )
तलवार  .... 
तलवार से
हकूमत हो सकती है
मुहब्बत नहीं  ....
(१३)
जरुरत  .... 
मैंने भगवान को
कभी नाराज नहीं किया
खुश करने की जरुरत ही नहीं  ....
(१४ )
ग्रेट  … 
हमलावर को
ग्रेट कहते जाना , लिखते जाना
इतिहास नहीं
ग्रेट गलत बयानी है  …
(१५)
भगवान  ....
इक नया ख्याल
पूज लो
चाहे जी लो  …
(१६)
मर्द  ....
मर्द अभी तक नहीं जागा
न अपना आदर करता है
न औरत का  ……
(१७)
जाल  ....
जाल को भूल जाओ
जब मछली पकड़ी गई
ग्रन्थ को भूल जाओ
जब समझ आ गई  ....
(१८)
अर्थ  .... 
यूँ ही ग्रन्थ न पढ़ो
अगर अर्थ नहीं बनता  …
(१९)
न - शब्द  .... 
प्यार सिर्फ एक
न - शब्द जुबान है
कल की हीर भी जानती थी
और आज की हीर भी जानती है   ....
(२०)
बटन पर कोट  ....

इक दीवाने ने
इक घर का दरवाज़ा खटखटाया
औरत ने दरवाज़ा खोला
तो दीवाना बोला
जी बड़ी मेहरबानी होगी
अगर आप मेरे कोट पर बटन टांक दें
औरत ने दीवाने को अंदर बुला लिया
दीवाने ने औरत को बटन पकड़ा दिया
बटन पकड़ कर औरत ने पूछा कोट किधर है ?
मेरे पास तो बटन ही है और सोच लिया था
आप इस बटन पर कोट सी देगीं
औरत सुनकर हैरान
कि बटन पर कोट कैसे सीए  …
अगर मुहब्बत औरत होती
दीवाने को देख - देख
उस के बटन पर भी कोट सी देना था
दीवाने ही रांझे होते हैं  …

इमरोज़
अनुवाद - हरकीरत हीर

No comments:

Post a Comment