Sunday, December 20, 2009

श्वेत अश्व श्वेत गुलाब .........

श्वेत अश्व श्वेत गुलाब .....( असमियाँ कविता , अनु. हरकीरत 'हीर' ) मूल: उदय कुमार शर्मा

(१)


खेतों में फसल नहीं अब - रेत है
तालाबों में मछलियां नहीं - दरारें हैं
पर्वतों में नहीं बचे दरख्त- अग्नि है
पेड़ों में भी अब नहीं है परिंदे- बस रक्त है

शहर की अँगुलियों में अब नहीं बची जगह अंगूठी की

बस जंगी सफ़ेद घोड़े सी
हिनहिनाती हुई मौत
पुकारती है
हर दिशा ....!!

( २)


हजारों लोग महज़
ख्वाबों में ही सो पाते हैं अब
आँखों की चाहत बन जाती है
सावन का आकाश
चमक उठती है मौत
बिल्ली की आँखों सी

(३)

तितलियों ने
फूलों के कानों में
चुपके से ये मंत्र फूंका
के अब जंगल भी समझने लगे हैं
तूफानों से जूझने की भाषा ...
क्षुधाग्नि ....
क्रोधाग्नि .....
मृतप्राय तृण पुनर्जीवित हो
अचानक बो देते हैं बीज प्रकाश के
मेढकों के गीत....
फसल बोने के गीत
जिन्हें सुन-सुन देखता रहूँगा मैं चिरदिन
आसमां में लिखे उस श्वेत गुलाब का
अनग्न अनंत यौवन ......!!

16 comments:

  1. क्षुधाग्नि ....
    क्रोधाग्नि .....
    मृतप्राय तृण पुनर्जीवित हो
    अचानक बो देते हैं बीज प्रकाश के
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्तु है उदय कुमार जी को बधाई आपका धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  2. इक-दर्द था सीने में,जिसे लफ्जों में पिरोती रही दिल में दहकते अंगारे लिए, मैं जिंदगी की सीढि़याँ चढती रही कुछ माजियों की कतरने थीं, कुछ रातों की बेकसी जख्मो के टांके मैं रातों को सीती रही। (

    mene to apna dard pe liya or so gaya varso pahle ......Ab bus mast safar hai..manzil ki talash nahi .... par Heer ji aap ka dard to apka profile ban gaya hai...aisha kiyo???????

    ReplyDelete
  3. harkirat ji...kavita ki panktiya kafi sundar hai....Assam sahi me kahi kho gaya hai....bihu nahi ab sirf nafrat ki awaj fijan me hai....


    apse anurodh hai...apki pujbai ki site ka devnagari lipi me ho sake to like de....padne me kafi assani hogi.....(Viboa Bhave ki baat maan le ).... punjab .... one and half year kaam kia punjabi channel ke liye...jana kafi nazddek se....desha mera ek hai.....majboot hai..dard sajha hai...

    ReplyDelete
  4. गणतंत्र की हार्दिक शुभकामनाएँ !!!! हरकीरत जी आपने अपना मुख्य ब्लाग केवल आमंत्रित सदस्यों के लिए क्यों कर दिया है ? अब हम आपकी रचनाओं से कैसे रु-बरु होंगे ?

    ReplyDelete
  5. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.......
    Manoj bharati ka prashn mera bhee hai........

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब, हरकीरत जी, सुंदर कविता का सुंदर अनुवाद । बधाई ।

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब

    तितलियों ने
    फूलों के कानों में
    चुपके से ये मंत्र फूंका
    के अब जंगल भी समझने लगे हैं
    तूफानों से जूझने की भाषा ...

    बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  8. Apko padhkar deil hi nahi bharta...din me 2-4 to aapke blog par ahi jata hun..

    ReplyDelete
  9. उदय कुमार शर्मा की सामयिक परिबर्त्तन प्रवृत्ति का बोध कराती रचना का भावानुवाद हीर जी की साधारणीकरण क्षमता की परिचायक है ।
    पढकर आनन्द आया ।

    ReplyDelete
  10. सशक्त अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. aapke anuvaad ne kavita ko ham tak pahunchaaya .. aapko shukriya !!

    ReplyDelete
  12. कल 24/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. गहन रचनाएँ ... बहुत खूबसूरती से हुआ अनुवाद ... आभार

    ReplyDelete